My Mother's word for her Love

किसी को सब कुछ आसानी से मिल गया

किसी ने वह सब मुश्किलों से पाया है।

क्या अपना है क्या पराया है

यह दिमाग पर एक गंदा साया है।

ना किसी से कुछ शिकवा है ना किसी से गिला है।

जो हमारे अपने हमें छोड़ गए, उसकी याद ने हमें सताया है।

जो मिला है जो पाया है, हमने खुशी से निभाया है।

हमारे पास हमारे पिता नहीं है यही ऊपर वाले से गिला हैं

यह सब मोह का जाल है। उसे जाना ही है जो इस धरती पर आया है

अगर किसी के पास ज्यादा है तो लापरवाही से उसे मिट्टी में मिलाया है।

ना किसी से डरते है ना किसी के आगे हाथ फैलाया है 

बस कुछ उम्मीद है उस रब से अब जिसने हमें बनाया है


Post a Comment

0 Comments