देखो कभी तो आज मौसम कैसा है

 देखो कभी तो आज मौसम कैसा है
शयाद उसका भी हाल हमारे जैसा है
पूछना तो जरा सारे बादल कहां गए
कही मेरी ही तरहा वो भी तो नहीं अकेला है
चलो साथ में आज उसको मनाते है
एक बार फिर से खुद को वहां छोड आते है!!
उस आसमां को उसका साथी मिल जायगा
जिसको देख कर शायद तेरा दिल भी पिगल जायगा… !!

1 comment

Thanks