बहुत याद आता हैं

हर बार तुम्हारा मिलना, और मिलके बिछड़ जाना,
हर बार तुम्हारा वो करीब आकर दूर जाना,
प्यार नहीं हैं ये पर जो भी हैं, सच बताऊं तो बहुत याद आता हैं,
तुम्हारा मुझे यूं हंसकर देखना, वो गाने गुनगुनाना
फिर वही हल्की सी बारिश में हाथ पकड़ कर ले जाना
सच बताऊं तो बहुत याद आता हैं
तुम्हारा मुझे यूं हल्के से छूना, मुझे छोड़ने से पहले गले लगाना 
जाते हुए बातें करना और फिर कब मिलोगे पूछना,
अब भी बहुत याद आता हैं।


5 comments

Thanks